How to File/Submit RTI Application Online In Hindi/Urdu (Step By Step) सूचना का अधिकार

इस विडियो में आप जानेंगे की online RTI कैसे file करते हैं | तो अगर आप जानना चाहते हैं कि सूचना का अधिकार का इस्तेमाल ऑनलाइन कैसे करते हैं? ऑनलाइन आर टी ऑय कैसे फाइल करते हैं ? तो फिर नीचे दिया गया विडियो देखिये उसमे आपको विस्तारपूर्वक उसके बारे में बताया गया है |

क्या है सूचना का अधिकार ?

सूचना का अधिकार अधिनियम भारत की संसद द्वारा पारित एक कानून है, जो 12 अक्टूबर 2005 को लागू हुआ. यह कानून भारत के सभी नागरिकों को सरकारी फाइलों/रिकॉडर्‌‌स में दर्ज सूचना को देखने और उसे प्राप्त करने का अधिकार देता है. जम्मू एवं कश्मीर को छोड़ कर भारत के सभी भागों में यह अधिनियम लागू है. सरकार के संचालन और अधिकारियों/कर्मचारियों के वेतन के मद में खर्च होने वाली रकम का प्रबंध भी हमारे-आपके द्वारा दिए गए करों से ही किया जाता है. यहां तक कि एक रिक्शा चलाने वाला भी जब बाज़ार से कुछ खरीदता है तो वह बिक्री कर, उत्पाद शुल्क इत्यादि के रूप में टैक्स देता है. इसलिए हम सभी को यह जानने का अधिकार है कि उस धन को किस प्रकार खर्च किया जा रहा है. यह हमारे मौलिक अधिकारों का एक हिस्सा है |

इससे कौन-कौन सी और क्या सूचना मांग सकते हैं ? 

सभी इकाइयों/विभागों, जो संविधान या अन्य कानूनों या किसी सरकारी अधिसूचना के अधीन बने हैं अथवा सरकार द्वारा नियंत्रित या वित्तपोषित किए जाते हों, वहां से संबंधित सूचना मांगी जा सकती है.
1. सरकार से कोई भी सूचना मांग सकते हैं.
2. सरकारी निर्णय की प्रति ले सकते हैं.
3. सरकारी दस्तावेजों का निरीक्षण कर सकते हैं.
4. सरकारी कार्य का निरीक्षण कर सकते हैं.
5. सरकारी कार्य के पदार्थों के नमूने ले सकते हैं

सूचना प्राप्ति की समय सीमा


पीआईओ को आवेदन देने के 30 दिनों के भीतर सूचना मिल जानी चाहिए. यदि आवेदन सहायक पीआईओ को दिया गया है तो सूचना 35 दिनों के भीतर मिल जानी चाहिए.
सूचना न मिलने पर क्या करे
यदि सूचना न मिले या प्राप्त सूचना से आप संतुष्ट न हों तो अपीलीय अधिकारी के पास सूचना का अधिकार अधिनियम के अनुच्छेद 19(1) के तहत एक अपील दायर की जा सकती है. हर विभाग में प्रथम अपीलीय अधिकारी होता है. सूचना प्राप्ति के 30 दिनों और आरटीआई अर्जी दाखिल करने के 60 दिनों के भीतर आप प्रथम अपील दायर कर सकते हैं

सूचना ना देने पर अधिकारी को सजा :-


स्वतंत्र भारत के इतिहास में पहली बार कोई क़ानून किसी अधिकारी की अकर्मण्यता/लापरवाही के प्रति जवाबदेही तय करता है और इस क़ानून में आर्थिक दंड का भी प्रावधान है. यदि संबंधित अधिकारी समय पर सूचना उपलब्ध नहीं कराता है तो उस पर 250 रु. प्रतिदिन के हिसाब से सूचना आयुक्त द्वारा जुर्माना लगाया जा सकता है. यदि दी गई सूचना ग़लत है तो अधिकतम 25000 रु. तक का भी जुर्माना लगाया जा सकता है. जुर्माना आपके आवेदन को ग़लत कारणों से नकारने या ग़लत सूचना देने पर भी लगाया जा सकता है. यह जुर्माना उस अधिकारी के निजी वेतन से काटा जाता है.
जुर्माने की राशि सरकारी खजाने में जमा हो जाती है. हालांकि अनुच्छेद 19 के तहत, आवेदक मुआवज़ा मांग सकता है.

कंप्यूटर और इन्टरनेट के बारे में और अधिक जानने के लिए हमें Facebook पर LIKE करना न भूलें  |


अगर आपको यह Video अच्छा लगा तो लाइक करना ना भूलें। और यदि आप Internet और Computer के बारे में सीखना और जानना चाहते है तो कृपया Facebook k Like बटन में क्लिक करे। Happy Learning
Technology के बारे में रोज कुछ न कुछ नया सीखने के लिए youtube में यहाँ से subscribe करें ==>>
★★★★★
Your Comment For This Post..?