What Is PAN Card ? How to Make Pan Card Online in India ?

what is pan card (पैन कार्ड क्या है ? )

Permanent Account Number (PAN) is a ten-digit alphanumeric number, issued in the form of a laminated card, by the Income Tax
Department, to any “person” who applies for it or to whom the department allots the number without an application.
PAN enables the department to link all transactions of the “person” with the department. These transactions include tax
payments, TDS/TCS credits, returns of income/wealth/gift/FBT, specified transactions, correspondence, and so on. PAN, thus,
acts as an identifier for the “person” with the tax department.
PAN was introduced to facilitates linking of various documents, including payment of taxes, assessment, tax demand, tax arrears
etc. relating to an assessee, to facilitate easy retrieval of information and to facilitate matching of information relating to
investment, raising of loans and other business activities of taxpayers collected through various sources, both internal as well as
external, for detecting and combating tax evasion and widening of tax base.
A typical PAN is AFZPK7190K.
First three characters i.e. “AFZ” in the above PAN are alphabetic series running from AAA to ZZZ
Fourth character of PAN i.e. “P” in the above PAN represents the status of the PAN holder. “P” stands for Individual, “F” stands for
Firm, “C” stands for Company, “H” stands for HUF, “A” stands for AOP, “T” stands for TRUST etc.
Fifth character i.e. “K” in the above PAN represents first character of the PAN holder’s last name/surname.
Next four characters i.e. “7190” in the above PAN are sequential number running from 0001 to 9999.
Last character i.e. “K” in the above PAN is an alphabetic check digit.

परमानेंट अकाउंट नम्बर कार्ड (PAN) आयकर विभाग द्वारा निर्गत 10 अंकों के अल्फा न्युमेरिक नम्बर युक्त एक फोटो पहचान पत्र है, जिसमें प्रत्येक कार्डधारी के लिए आवंटित की जाती है। आयकर के समुचित प्रबंधन के साथ साथ पैन टैक्स की चोरी और ब्लैकमनी पर नियंत्रण लगाने के लिए सबसे असरदार हथियार साबित हुआ है। इसका इसका विधयिक नियन्त्र भारत सरकार के वित्त मंत्रालय द्वारा किया जाता है और आयकर रिटर्न फ़ाइल करते समय पैन नंबर का उल्लेख करना आवश्यक होता है। इसके अलावे, पैन का उपयोग बैंक में खाता खुलवाने, पासपोर्ट बनवाने, ट्रेन में ई-टिकट के साथ यात्रा करते समय पहचान पत्र के रूप में प्रयोग किया जा सकता है।


 Why Is It Necessary To Have PAN? 

It is mandatory to quote PAN on return of income, all correspondence with any income tax authority. From 1 January 2005 it will
be mandatory to quote PAN on challans for any payments due to Income Tax Department.
It is also compulsory to quote PAN in all documents pertaining to the following financial transactions :-
(a) sale or purchase of any immovable property valued at five lakh rupees or more;
(b) sale or purchase of a motor vehicle or vehicle, [the sale or purchase of a motor vehicle or vehicle does not include two
wheeled vehicles, inclusive of any detachable side-car having an extra wheel, attached to the motor vehicle;]
(c) a time deposit, exceeding fifty thousand rupees, with a banking company ;
(d) a deposit, exceeding fifty thousand rupees, in any account with Post Office Savings Bank;
(e) a contract of a value exceeding one lakh rupees for sale or purchase of securities;
(f) opening a bank account;
(g) making an application for installation of a telephone connection (including a cellular telephone connection);
(h) payment to hotels and restaurants against their bills for an amount exceeding twenty-five thousand rupees at any one time ;
(i) payment in cash for purchase of bank drafts or pay orders or banker’s cheques for an amount aggregating fifty thousand
rupees or more during any one day;
(j) deposit in cash aggregating fifty thousand rupees or more with a bank during any one day;
(k) payment in cash in connection with travel to any foreign country of an amount exceeding twenty-five thousand rupees at any
one time.

पैन रखना क्यों आवश्यक है?

आयकर रिटर्न, किसी भी आयकर अधिकारी के साथ सभी पत्राचार के लिए पैन लिखना अनिवार्य है। 1 जनवरी 2005 से आयकर विभाग को देय किसी भी भुगतान के लिए चालान पर पैन लिखना अनिवार्य हो जाएगा। {Section 139A (5) (a) and (b)}

वित्तीय प्रत्यक्ष कर के केन्द्रीय बोर्ड द्वारा समय-समय पर अधिसूचित वित्तीय लेनदेन से संबंधित सभी दस्तावेजों में भी पैन लिखना अनिवार्य है। कुछ इस तरह के लेनदेन हैं अचल संपत्ति या मोटर वाहन का क्रय और विक्रय बिक्री या होटल और रेस्तरां या किसी भी विदेशी देश की यात्रा के संबंध में रु. 25,000 /- से अधिक राशि का नकद भुगतान करने के लिए। किसी टेलीफोन या सेलुलर टेलीफोन कनेक्शन प्राप्त करने के लिए भी पैन का उल्लेख करना अनिवार्य है। इसी तरह, किसी बैंक या पोस्ट ऑफिस में रु. 50,000 / - से अधिक समय जमा या एक बैंक में रु. 50,000 / - या उससे अधिक नकद जमा करने पर भी पैन का उल्लेख करना होता है। {Section 139A (5) (c) read with Rule 114B}

Who must have a PAN Card? 

i. All existing assesses or taxpayers or persons who are required to furnish a return of income, even on behalf of others, must
obtain PAN.
ii. Any person carrying on any business or profession whose total sales, turnover or gross receipts are or is likely to exceed five
lakh rupees in any previous year;
iii. Any person, who intends to enter into financial transaction where quoting PAN is mandatory, must also obtain PAN.
iv. The Assessing Officer may allot PAN to any person either on his own or on a specific request from such person.

पैन किसके पास होना चाहिए?

i. सभी मौजूदा मूल्यांकित व्यक्ति या करदाता या व्यक्ति जिन्हें आयकर रिटर्न प्रस्तुत करने की आवश्यकता हो, दूसरों की ओर से भी, को पैन प्राप्त करना चाहिए। {Section 139A (1) and (1A)}
ii. कोई भी व्यक्ति, जो किसी भी वित्तीय लेनदेन की मंशा रखता हो, जहां पैन उद्धृत करना अनिवार्य हो, को पैन प्राप्त करना होगा। { Section 139A (5) (c) read with Rule 114B}
iii. मूल्यांकन अधिकारी या तो स्वयं या विशेष अनुरोध पर किसी व्यक्ति को पैन आवंटित कर सकते हैं। {Section 139A (2) and (3)}

पैन कार्ड के लिए कौन आवेदन कर सकता है  ?

1.)  पत्येक भारतीय नागरिक पैन कार्ड के लिए आवेदन कर सकता है। कोई भी व्यक्ति, फर्म या संयुक्त उपक्रम पैन कार्ड के लिए आवेदन कर सकता है। 
2.) आवेदक का किसी नौकरी, व्यवसाय या कारोबार से संलग्न रहना आवश्यक नही है 
3.) इसके लिए कोई न्यूनतम अथवा अधिकतम उम्र सीमा नहीं है। आयु, लिंग, शिक्षा, निवास स्थान पैन कार्ड आवेदन के लिए बाधक नहीं है।
4.) बालको और नवजात बच्चों के लिए भी पैन कार्ड बनवाया जा सकता है।

How To Make Pan Card Online ? पेन कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाये ?

Watch The Video Below To Lear How To Make Pan card Online नीचे दिए हुए विडियो को ध्यान से देखए जिसमे] बताया गया है की ऑनलाइन पेन कार्ड आसानी से कैसे बना सकते हैं :-


अगर आपको यह Video अच्छा लगा तो लाइक करना ना भूलें। और यदि आप Internet और Computer के बारे में सीखना और जानना चाहते है तो कृपया Facebook k Like बटन में क्लिक करे। Happy Learning
Technology के बारे में रोज कुछ न कुछ नया सीखने के लिए youtube में यहाँ से subscribe करें ==>>
★★★★★
Your Comment For This Post..?