What is Bot and Botnet attack and how it works in hindi?

What is Bot and Botnet attack and how it works?

नमस्कार दोस्तों आज हम आपको Bot और Botnet के बारे मे बताएँगे | दोस्तों यह पोस्ट आप लोगों के लिए पढ़ना बहुत जरुरी है क्योंकि इस पोस्ट मे हम आपको यह तो बताएँगे ही की Bot और Botnet क्या होता है और इसके साथ-साथ हम आपको यह भी बताएँगे की आप इससे कैसे बच सकतें हैं |  दोस्तों Bots का इस्तेमाल करके Hacker दूसरों को नुक्सान  पहुँचाते है और उस नुक्सान का इलज़ाम उन बेगुन्हां लोगो पर डाल देते हैं जिन्हें इस नुक्सान की कोई जानकारी ही नहीं होती | जैसे जैसे Technology आगे बड रही है वैसे वैसे यह bots और भी ज्यादा intelligent होते जा रहें हैं | पहले websites को secure रखने के लिए Normal captcha code का इस्तेमाल होता था जिसमे की numbers और alphabets होते थे क्योंकि उस समय bots इतने intelligent नहीं थे की वह उन numbers और alphabets को पहचान सकें लेकिन अब वह उन numbers और alphabets को पहचान सकते हैं इसलिए अब Normal Captcha code की जगह Pictures को captcha code की तरह इस्तेमाल किया जाता है | इन captcha code मे हमे Picture को किसी category मे डालना होता है और Bots यह Identify नहीं कर पाते हैं की आखिर वह Picture है किस चीज़ की हांलाकि bots image को भी recognize कर लेते हैं लेकिन image को recognize करने का process थोडा सा complex हो जाता है  | Bots के लिए  इन images वाले captcha code को पहचानना मुश्किल होता है क्योंकि इन Pictures वाले Captcha code मे Pictures को Identify करना होता है की वह Picture किस किस चीज़ की हैं | उदाहरण के लिए - आपने देखा होगा की कई websites मे Captcha code मे बहुत सारी images दी होती हैं जिनमे में से उन images को Select करना होता है जिसमे की Street Signs होते हैं और फिर उन pictures को Select करके Verify करना होता है और यह एक Picture identification Captcha code कहलाता है जिसे Bots Identify नहीं कर पाते |

Picture Identification Captcha Example 


  

यदि आप जानना चाहते है की Bot और Botnet क्या होता है और आप इससे कैसे बच सकतें है तो हमारे इस पोस्ट को पूरा पढ़ें |

What is Bot ?

Bot को आप Robot भी कह सकतें हैं | Bot एक प्रकार का Program या code होता है जो अच्छे कामों मे भी इस्तेमाल होता है और बुरे कामों में भी और यह दिए गए कार्यों को पूरा करता है | यह एक ऐसा सॉफ्टवेयर प्रोग्राम हैं जो खुद से , पहले से सोचे हुए या बाद मे भी दिए गए कार्यों को पूरा करता हैं। यह ऐसे robots होते हैं जो उसी आधार पर काम करते हैं जो उनको करने के लिए कहा जाता है | कुछ Bots स्वचालित रूप से चलते हैं, जबकि अन्य केवल तभी Commands को Execute करते हैं जब उन्हें कोई Specific Input दी जाए | Bots कई प्रकार के होते हैं जिनमे से कुछ सामान्य है – Web Crawlers, Chat Room Bots और Malicious Bots | दोस्तों आपने देखा होगा की आजकल ज्यादातर websites मे Captcha code का इस्तेमाल होता है ये जो captcha code है वो उस website को Crash होने से बचाते हैं | उदाहरण के लिए मान लीजिये यदि आप किसी ऐसी कम्पनी को mail करते हैं जो इन bots का इस्तेमाल करती हैं तो आपने देखा होगा की जैसे ही आप उस कंपनी को mail करते हैं तो तुरत आपके पास उनका एक mail / message आता है की आपका mail हमे मिल गया है , Thank you for mail. तो वो जो message/mail आपके पास आती है वो एक robot द्वारा ही की जाती है और यहाँ तक की जितने भी mobile मे personal assistant आते हैं वो सब एक तरह के bot या robot हैं |   

Types of Bots ?

Bots को हम दो Category मे Divide करते हैं – 

1. Good Bots - या वह Program होते हैं जो हमारी सहायता करते है किसी भी कार्य को जल्दी और अच्छे से करने मे | 

a.) Chat-bots – यह Bots इंसानों के साथ chat करने के लिए बनाए जाते हैं | इन robots मे ऐसी           intelligence होती है की आप इनसे जो बात करते हैं ये robots आपको उसका reply देते हैं |
b.) Crawlers – यह bots search engines द्वारा इस्तेमाल किये जाते हैं | इनका इस्तेमाल Web से Data को Collect करने के लिए किया जाता है |
c.) Transactional Bots - ये Bots मनुष्यों की ओर से एक Agent के रूप मे कार्य करते हैं जो की एक Specific Transaction को पूरा करने के लिए External Systems के साथ Interact करते हैं |

2. Bad Bots - यह वह Program होते हैं जो हमारी सहायता किसी बुरे काम को करने के लिए करते हैं | 

a.) Hackers – ये Bot इस तरीके से बनाए जाते है जो सभी तरह के Malware's को Distribute कर सकें | ये Bot सुरक्षा कमजोरियों का फायदा उठाते है और दूसरों को नुक्सान पहुँचाते हैं |

b.) Spammers – इन Bots का काम होता है वेब के चारों ओर गंदे प्रचार करना | इनका इस्तेमाल आम तौर पर  advertising, phishing, spreading malware, आदि के लिए किया जाता है |

c.) Scrapers – इस तरह के Bots अन्य वेबसाइटों से Content like email addresses, images, text, आदि को चोरी करने के लिए बनाए जाते हैं |

d.) Impersonators - इन Bots को इस प्रकार Design किया जाता है जैसे ये कोई Natural User हो | जिस वजह से इन्हें पहचानना बहुत मुश्किल हो जाता है| इनकी मदद से DDOS (Distributed Denial of Service) attack किये जाते हैं जिसमे अलग अलग proxies या computer को हथियार की तरह इस्तेमाल कर किसी को नुक्सान पहुँचाया जाता हैं |

What is Botnet ?

Botnet को zombie(Hackers) Army भी कहा जाता है | यह दो शब्दों से मिलकर बना है Bot(Robot) + Net(Network) | यह प्राइवेट कंप्यूटरों का एक नेटवर्क होता है जो की Zombie(Hacker) द्वारा संक्रमित हुए रहते हैं जिसका पता इन कंप्यूटरों के मालिकों को भी नहीं होता है तथा इन कंप्यूटरों के समूह का प्रयोग hacker अन्य कंप्यूटरों को संक्रमित करने के लिए करता है | अन्य कंप्यूटरों को संक्रमित करने के लिए hacker virus, malware तथा अन्य खतरनाक चीज़ें दूसरों को भेजता है जिससे दूसरे  प्राइवेट कंप्यूटर भी संक्रमित हो जाते हैं | इसमें hacker दूसरों के कंप्यूटरों का इस्तेमाल करके किसी को नुक्सान पहुँचाता है और खुद तो बच जाता है अपने कंप्यूटर के IP Address को छिपाकर लेकिन जो अन्य कंप्यूटरों के मालिक होते है वो इस हमले के कारण बनकर फँस जाते है जबकि उन्हें इसके बारे मे कोई जानकारी नहीं होती है |  

What is Dos (Denial of Service) Attack ?

DOS (Denial of Service) प्रयोग करके Hacker किसी नेटवर्क या मशीन को उस पर access करने वाले users के लिए unavailable कर देता है | इस हमले का मुख्य उद्देश्य users को किसी service जैसे internet पर access करने से रोकना है | इसमें नेटवर्क या मशीन को unavailable करने के लिए सिर्फ एक कंप्यूटर और एक internet connection की आवश्यकता होती है | DOS Attack का इस्तेमाल Hackers mainly e-commerce की websites को नुक्सान पहुँचाने के लिए और उस website के मालिक से फिरौती लेने के लिए करते हैं | Hackers उस e-commerce website के मालिक को धमकी देते हैं की यदि उसने Hacker की बात नहीं मानी तो वह उसकी website पर DOS attack करके उसकी website को उसके Real user के लिए unavailable कर देगा जिसकी वजह से जब वह Real user उस e-commerce website से कोई product खरीदेगा तो उस वक़्त उस e-commerce website से उसके real user को कोई Response नहीं मिलेगा और उस e-commerce website के मालिक को आर्थिक नुक्सान होगा क्योंकि वो Real User DOS attack की वजह से उस product को नहीं ख़रीद पाएगा |

What is DDOS (Distributed Denial of Service) Attack ?

DDOS (Distributed Denial of Service) हमला DOS हमले का ही विस्तृत रूप है | इस हमले मे network या मशीन को unavailable करने के लिए एक से ज्यादा कंप्यूटर और एक से ज्यादा internet connection का इस्तेमाल होता है |   

यदि आप इस तरह के हमलों से बचना चाहते है तो आप अपने कंप्यूटर मे antivirus का इस्तेमाल कीजिए और उसे समय समय पर Update करिए या हमारे इस पोस्ट को पढ़िए जिसमे हमने सारी जानकारी दी है - What is Bot Removal Tool And How To Use Bot removal tool as antivirus provided by Indian Government ?


दोस्तों आशा करते है की आपको Bot, Botnet, DOS(Denial of Service) और DDOS(Distributed Denial of Service) से जुड़ी सभी जानकारी मिल गयी होगी |

दोस्तों यदि आप Bot के बारे मे और अधिक जाना चाहते हैं तो आप हमारी इस video को देखकर जान सकतें हैं |

अगर आपको यह Post and Video अच्छा लगा तो लाइक करना ना भूलें। और यदि आप Internet और Computer के बारे में सीखना और जानना चाहते है तो कृपया Facebook k Like बटन में क्लिक करे। Happy Learning
Technology के बारे में रोज कुछ न कुछ नया सीखने के लिए youtube में यहाँ से subscribe करें ==>>
★★★★★
Your Comment For This Post..?