What is RAM (Random access memory) and their types in details?

What is RAM (Random Access Memory)

नमस्कार दोस्तों आज हम आपको बताएंगे की RAM किसे कहते है और RAM क्या होती है । जब भी हम कंप्यूटर,लैपटॉप ,मोबाइल की बात करते है तो हमारे सामने RAM की बात आती है । और आपको पता नहीं होता है की RAM क्या है । इसलिए हम आपको निचे पोस्ट में बताने वाले है की RAM किसे कहते है और क्या होती है । 

What is RAM ? RAM क्या है?


RAM की Full form है Random Access Memory । यह CPU के अंदर fit होती है । और इसके अंदर कुछ भी सेव नहीं होता है । यह केवल कंप्यूटर को working space देता है जब हम कोई एप्लीकेशन कंप्यूटर में चलाते है तो वह चलते समय RAM का उपयोग करती है । कंप्यूटर में काम RAM होने के कारण से कभी कभी कंप्यूटर HANG होने की समस्या आती है । तथा कुछ एप्लीकेशन को उसके हिसाब से RAM नहीं मिल पाती है तो वो कंप्यूटर में नहीं चल पाती है । 

RAM कंप्यूटर का एक Memory device है । ये एक Chip की बानी होती है इसे कंप्यूटर motherboard के साथ जोड़ा जाता है इसका कार्य कंप्यूटर को चलाने के साथ साथ कंप्यूटर को OUTPUT दिखाना भी होता है । ज्यादातर RAM को MainMemory के रूप में देखा जाता है जैसे की Computer में 8 GB RAM है तो इसका मतलब है आपके कंप्यूटर में 8 million bytes है । जिसे कंप्यूटर प्रोग्राम इस्तेमाल करता है । RAM का इस्तेमाल सिर्फ कंप्यूटर प्रोग्राम को पढ़ने में किया जाता है । 

Types of RAM :-RAM के प्रकार !

a. DRAM(Dynamic Random Access Memory) 
b. SRAM (Static Random Access Memory)

ये दोनों टेक्नोलॉजी अलग अलग है । आजकल कंप्यूटर और मोबाइल में सिर्फ DRAM का इस्तेमाल होता है ।लेकिन अगर Speed(गति)की बात करते है तो SRAM  सबसे तेज होती है । क्योंकि DRAM 1 सेकंड में हज़ारो बार REFRESH होती है जबकि SRAM को REFRESH करने की जरुरत नहीं होती इसकी वजह से वो बहुत तेज होती है । 

What is DRAM ?DRAM क्या है !

इसकी Full form है Dynamic Random Access Memory। यह Capacitor और Transistor के बने हुए Storage Cell में data की प्रत्येक BIT को जमा करते है। DRAM को Dynamic Storage Cell इसलिए माना जाता है क्योंकि इसे हर millisecond में REFRESH करने के एक नए Electronic Charge की आवश्यक्ता पड़ती है ताकि ये Capacitor से लीक हो रहे Charge की कमी को पूरा करे । 
DRAM की सबसे ख़ास बात यह है की इसका आकर साधारण होता है इसकी स्पीड भी अच्छी होती है लेकिन इसमें एक कमी ये भी है की यह बाकी के Devices से ज्यादा बिजली का इस्तेमाल करता है और अस्थिर होते है । 

DRAM से संचार कई प्रकार होते है । 

1. FPM DRAM(Foot Page Mode Dynamic Random Access Memory ) 
2. EDO DRAM(Extended Data Out Dynamic Random Access Memory )
3. SDRAM(Synchromous Dynamic Random Access Memory)

1. FPM DRAM(Foot Page Mode Dynamic Random Access Memory ) 
यह सबसे अधिक इस्तेमाल की जाने वाली RAM है क्योंकि ये कंप्यूटर की उसी ROW या PAGE में डाटा को तेज गति से कार्य करने की अनुमति देता है । इसके लिए इसी PAGE या ROW के Address के डाटा की आवस्यकता होती है । 

2. EDO DRAM(Extended Data Out Dynamic Random Access Memory )
ये डाटा OUTPUT को तभी Active रहने की अनुमति देता है जब कंप्यूटर में सिग्नल नहीं होते है । इसके लिए कुछ Additional Signal का प्रयोग करता है । 

3. SDRAM(Synchromous Dynamic Random Access Memory)
इसको ज्यादातर DRAM का ही नाम माना जाता है ,जो Micro-Processor की Clock-Speed को Synchronize करता है । इनमे Signal Data Rate के नाम कुछ इस प्रकार है । DDR DRAM , DDR2 DRAM , DDR3 DRAM , DDR4 DRAM 

DDR , DDR 2 , DDR 3 , DDR 4 क्या है ?


DDR,DDR 2 , DDR 3 ,DDR 4 विभिन्न प्रकार के SDRAM हैं जो कंप्यूटरों में उपयोग किए जाते हैं। DDR 2 एक fast transfer rate, bus clock प्रदान करता है और DDR की तुलना में अधिक शक्ति-अनुकूल है DDR 3 उसी तकनीक का एक advanced version है इससे पहले की DDR ,DDR 2 के मुक़ाबले यह तेजी से तेज गति और उच्चतम चोटी के माध्यम से सक्षम बनाता है
सभी तीन technical और physical विशिष्टताओं जैसे विभिन्न संदर्भों में अलग हैं।DDR को double data rate कहा जाता है | DDR, DDR 2 और DDR 3 एक ही DDR technology के आधार पर अलग-अलग version हैं। सभी टेक्नोलॉजी की बनावट Synchromous Dynamic Random Access Memory पर आधारित है।DDR को Double Pump, Dual Pump और Double transition प्रक्रिया के रूप में भी जाना जाता है।DDR या DDRSDRAM तकनीक से विकसित पहली पीढ़ी की श्रेणी में आता है। Prefetching, Double Transition Clocking, Strobe आधारित Data Bus और Stub Series Terminated Logic_2 (SSTL_2) Low Voltage Signaling आदि के सुधार, मूल तकनीक में DDR 1 बनाने के लिए किए गए थे।
DDR 2 दूसरी पीढ़ी में आया है और इसे DDR के उत्तराधिकारी के रूप में देखा जा सकता है। यह 6.4 GB तक Data Rate प्रदान करने में सक्षम है। यह DDR के मुकाबले कम खपत देने के लिए जाना जाता है। तेजी से Clock के कारण, 1.8-V operation और signaling, एक सरल आदेश सेट के साथ, DDR 2 ने अपने प्रदर्शन में सुधार किया है।
DDR 3 (DDR SDRAM की तीसरी पीढ़ी है ) DDR 3  एक और बेहतर version है। यह Bandwidth और बिजली की खपत में विशेष रूप से सुधार हुआ है। DDR 3 6.40 GB से लेकर 17GB/sec तक के  peak Bandwidth के साथ 400 Megahertz से 1066 Megahertz की clock rate पर चल रही है। DDR 3  512 Megabits के 16 Gigabits के chip क्षमताओं की अनुमति देता है।
DDR का आना अब बंद हो गया है, इसलिए आज इसे बड़े स्तर पर नहीं बनाया गया है। बेहतर प्रदर्शन के लिए  DDR 3 को पसंद किया जा रहा है। 
 और आजकल के समय में हर कंप्यूटर और लैपटॉप और मोबाइल मोबाइल में DDR 3 का ही इस्तेमाल किया जाता है । 

What is SRAM ?SRAM क्या है !

जब तक कंप्यूटर को Power supply मिलती रहती है तब तक कंप्यूटर Data की हर Bit को जमा और Retain करती है । DRAM को अपना कार्य करने के लिए लगातार REFRESH होना होता है ये बिना REFRESH हुए ही अपने काम को करती है और इसी वजह से इसकी Speed DRAM से कही ज्यादा होती है । इसे REFRESH करने के लिए Electronic Supply की आवश्यकता नहीं होती । इसकी कीमत DRAM की कीमत से कही ज्यादा होती है Data Store करने के लिए इसे DRAM से 4 गुना ज्यादा जगह की जरुरत होती है । इसका उपयोग Level 1,Level 2 की Cache के लिए किया जाता है जिससे Micro-Processor DRAM से सर्वप्रथम जांच की जाती है
 SRAM एक तरह का Semi-Conductor होता है । जो Data स्टोर  करने के लिए Bistable Latching Circuitry का इस्तेमाल करता है ये High Capacity पर काम करता है । इसका इस्तेमाल Personal computer या अपने Office के computer में C.P.U की Files, बाहरी Cache,C.P.U Cache, HardDisk को buffer करने आदि कार्य में करते है । इसके अलावा LED screen और Printers भी अपने images को Display, करने के SRAM का इस्तेमाल करता है । 

ASYNCHROMOUS Static Random Access Memory :-
ये 3 Control Signal के द्वारा manage किया जाता है । पहला Chip Select(CS),Output Enable(OE),Write Enable(WE) इनको कम गति,माध्यम गति,तेज गति में भी बाटा जा सकता है । 

SYNCHROMOUS Static Random Access Memory :-
Micro-Process Cycle के साथ पढ़ने और लिखने को synchronize किया जाता है और तब ये बहुत तेज गति के साथ अपना काम कर पाती है । 

SPECIAL Static Random Access Memory :-
इनको Multiport और Cache Tag के भागो में विभाजित किया जाता है । Multiport SRAM Chip का निर्माण काफी ख़ास ढंग से किया जाता है ताकि इसका इस्तेमाल तेज गति से काम करने वाले SRAM में किया जा सके । 

उम्मीद करता हु दोस्तों आपको समझ आ गया होगा की RAM क्या होती है और इसके कितने प्रकार होते है । 

जरूर पढ़े :-





अगर आपको यह Post and Video अच्छा लगा तो लाइक करना ना भूलें। और यदि आप Internet और Computer के बारे में सीखना और जानना चाहते है तो कृपया Facebook k Like बटन में क्लिक करे। Happy Learning
Technology के बारे में रोज कुछ न कुछ नया सीखने के लिए youtube में यहाँ से subscribe करें ==>>
★★★★★
Your Comment For This Post..?