What is VVPAT and what is the use of VVPAT in India during election ?

What is VVPAT and during election what is the use of VVPAT ?

नमस्कार दोस्तों आज हम आपको बताएंगे की VVPAT क्या है और Election में इसे किस प्रकार इस्तेमाल किया जाता है । जैसा की दोस्तों आपको पता है की चुनाव के दौरान सबसे पहले पेपर ballet का इस्तेमाल किया जाता था जिसमे की वोटर अपना वोट चुनाव चिन्ह के आगे लगा कर वोट देता था । इसके बाद आयी EVM मशीन जिसमे की वोटर चुनाव चिन्ह के आगे का बटन दबाकर अपना वोट देता था लेकिन इसमें वोटर को पता नहीं लग पाता था की जिस राजनीति दल  को उसने वोट दिया है वो उसी राजनीती दल में गया होगा । इसलिए सरकार ने VVPAT नाम की मशीन की शुरुवात की अब हम आपको आगे बताएंगे की VVPAT क्या है । 

What is VVPAT ? VVPAT क्या है !

VVPAT का पूरा नाम Voter Verified Paper Auditor Trial है मतदान को पूरी तरह सुरक्षित बनाने के लिए चुनाव आयोग ने साल 2012 में होने वाले चुनाव में होने वाले देश के पांच राज्यो में विधान सभा चुनावो को लेकर नयी तकनीक अपनायी और इस नयी तकनीक का नाम था VVPAT आमतोर  पर इस तकनीक से आप वाक़िफ़ नहीं होंगे । यह एक प्रकार की कंप्यूटरीज़ डिवाइस है जिसका इस्तेमाल चुनाव आयोग पहली बार मतदान के दौरान करने जा रहा है । इस मशीन का प्रयोग मतदान केंद्रों में किया जाएगा आने वाले समय में और यह पूरी तरह से गोपनीय होगा इसका प्रभाव मतदान करने वाले मतदाता को दिखेगा । 

साधारण सब्दो में कहा जाए तो VVPAT मशीन के द्वारा जब वोटर वोट देता है तो कभी कभी उसे भरोशा नहीं होता था की उसने जिससे वोट दिया है वो वोट उसी को गया है या नहीं । इसलिए VVPAT मशीन के द्वारा उसे एक पेपर में दिखाया जाता है की आपका वोट किस चुनाव चिन्ह में वोट दिया  है । और उस पेपर में वोटर का नाम और उसका चुनाव चिन्ह और नाम दिखाया जाता है ।

निर्वाचन आयोग ने फ़र्ज़ी मतदान को देखते हुए और मशीन में डाले गए वोट को लेकर वोटर  Voter Verified Paper Auditor Trial मशीन भी मतदान में सामिल की है । हालांकि इस तकनीक का इस्तेमाल झारखण्ड विधान सभा चुनाव में पहली बार किया गया था । 

Technology used in VVPAT :-


1. VVAP 

2. VSDU

Advantages of VVPAT :-फ्यादे VVAPT के क्या है  

इस डिवाइस का लाभ यह होगा की जब मतदाता अपने मतधिकार का प्रयोग के लिए EVM मशीन पर अपना मनपसंद बटन दबाएगा । उसके बाद 7 सेकंड तक एक बीप की आवाज़ बजेगी और सामने VVPAT के डिस्प्ले पर मतदाता को वोह चिन्ह नज़र आएगा । जिस पर उसने वोट किया होगा और एक स्लिप होकर दिखेगी मगर वोह स्लिप मतदाता को नहीं मिलेगी वो वापिस ही उस मशीन में बने एक स्टोरेज में चली जायेगी । इसके पीछे उद्देयेश सिर्फ इतना ही है की मतदाता पूरी तरह से निश्चित हो जाए की उसने जिस पार्टी या प्रतियासी को वोट दिया है उसी को मिला है । और बाद में यदि किसी कारण से पुनः मतगर्णना की आवश्यकता पड़ी तो EVM के अल्वा VVPAT स्लिप भी काम में आएगी । 

VVPAT के प्रयोग से मतदातायो को काफी सहूलियत मिलेगी । कई बार ऐसा देखा गया है की मतदान के बाद मतदाता सोच में रहते है कही भूल से उन्होंने किसी दुसरे प्रतियासी को तो वोट नहीं दे दिया है । उनका वोट किसी पार्टी या प्रतियासी को मिला है । वही अगर मतदाता द्वारा किये गए मतदान और मशीन द्वारा बताये गए परिणामो में फर्क नज़र आता है तो इसके लिए मतदाता सम्बंधित अधिकारी को तत्काल सूचित किया जाता है ।   

उम्मीद करते है दोस्तों आपको समझ में आ गया होगा की VVPAT क्या है और चुनाव में किस प्रकार इसका इस्तेमाल किया जाता है और इसका फयादा क्या है। यदि आपको कोई संदेह है तो आप कमेंटबॉक्स में कमेंट करके अपने संदेह दूर कर सकते है ।



अगर आपको यह Post and Video अच्छा लगा तो लाइक करना ना भूलें। और यदि आप Internet और Computer के बारे में सीखना और जानना चाहते है तो कृपया Facebook k Like बटन में क्लिक करे। Happy Learning
Technology के बारे में रोज कुछ न कुछ नया सीखने के लिए youtube में यहाँ से subscribe करें ==>>
★★★★★
Your Comment For This Post..?