What is the difference between http and https protocols in a web address in Hindi?

What is the difference between http and https protocols in a web address in Hindi?

नमस्कार दोस्तों आज हम HTTP और HTTPS के बारे मे बताएँगे और आपको  यह भी बताएँगे की इन दोनों के बीच क्या Difference हैं और ये दोनों एक दूसरे से अलग क्यों हैं | वैसे तो दोस्तों इंटरनेट को हम सभी इस्तेमाल करते हैं लेकिन क्या आपको पता है की किसी web address के आगे जो http और https होता है वो क्या होता है और यह किस वजह से किसी web address के आगे लगाया जाता है | यदि आप जानते हैं तो अच्छी बात है और यदि आप नहीं जानते तो कोई बात नहीं हम आपको बता देते है |

Difference Between HTTP and HTTPS -

What is HTTP(क्या है)?

difference between http and https websites

दोस्तों इसकी जो Full Form होती है वो है Hyper Text Transfer Protocol और ये एक ऐसा Protocol जो की basically एक ऐसे Set of Rules हैं जिनकी वजह से आप किसी Server से information को अपने Browser मे ले पाते हैं और अपने Browser से Data को उस Server पे भेज पाते हैं | http की मदद से ही Data Exchange Possible हो पाता है लेकिन इस के साथ जो दिक्कत आती है वो है Privacy की क्योंकि इसमें जो Connection बनता है एक Client और एक Server के बीच, वो Completely insecure होता है क्योंकि यह Open होता है और यदि कोई Hacker चाहे तो आपको बड़ी ही आसानी से Hack कर सकता है | वैसे किसी Normal Case मे, जैसे की आप यदि कोई Video देख रहे हों या ऑनलाइन कोई Article पढ़ रहें हो या कोई भी Normal काम कर रहे हों तो कोई फर्क नहीं पड़ता लेकिन आपको इससे फर्क तब पड़ेगा जब आप किसी website मे Login कर रहें हों या ऑनलाइन Banking का इस्तेमाल कर रहे हो या फिर ऑनलाइन Shopping कर रहे हो क्योंकि जब आप अपनी किसी Personal information को उस website मे Enter करेंगे तो यदि कोई Hacker चाहेगा तो आपकी सारी Personal Details को आसानी से चुरा पाएगा फिर चाहे वो आपकी Login id और Password हो या फिर आपके Credit/Debit Card की Details  और फिर आप बड़ी ही आसानी से उस Hacker द्वारा Hack हो जायेंगे | इसलिए http का इस्तेमाल करना सिर्फ उस हद तक ठीक है जब तक आप कोई Normal काम कर रहे हैं |

What is HTTPS(क्या है)?

what is the difference between http and https in a web address

दोस्तों इसकी जो Full Form होती है वो है Hyper Text Transfer Protocol Secure और यह पूरी तरीके से Secured होता है क्योंकि इसमें एक Extra Layer जुड़ जाती है http के आगे जिसको SSL(Secure Sockets Layer) कहा जाता है | इसमें जो Connection बनता है एक Web Server और एक Web Browser के बीच वो Completely Encrypted होता है और कोई Hacker उसे Hack नहीं कर सकता | यदि कभी कोई Hacker इसे Hack कर भी लेता है तो वह यह Exactly कभी पता नहीं कर पाएगा की आपकी Personal Details क्या थी क्योंकि यह Completely Secured और Encrypted होता है | HTTPS आजकल ज्यादातर सभी Banking Websites मे, Online Shopping Websites मे, Social Websites मे और कई ऐसी Websites मे भी इस्तेमाल हो रहा है जहाँ आप को अपनी Mail id और Password जैसे Details को डालना पड़ता है |

अंत मे दोस्तों हम आपसे बस इतना ही कहना चाहेंगे की कभी भी आप किसी ऐसी Websites मे अपनी Personal Details जैसे की Email id और Password या Credit/Debit Card की Details ना डालें जिन Websites के आगे केवल http लगा हो क्योंकि यदि आप ऐसा करते हैं तो आप बड़ी ही आसानी से किसी Hacker द्वारा Hack हो सकते हैं और आपकी Personal Details को कोई भी Hacker बड़ी आसानी से चोरी कर सकता है |  

दोस्तों आपके लिए इस पोस्ट को पढना भी बहुत ज़रूरी है तो कृप्या इसे भी पढ़ें - Do i really need to have https(SSL Layer) on my Website?

उम्मीद करते हैं दोस्तों की अब आप को http और https के बीच के Difference के बारे मे पता चल ही गया होगा और हम यह भी उम्मीद करते हैं की अब आप जिस भी Website को Surf करेंगे तो उसके आगे लगे http और https के महत्व को समझ पाएंगे और जान पाएंगे की उस Website मे आपको अपनी Personal Details डालनी है या नहीं |  

अगर आपको यह Post and Video अच्छा लगा तो लाइक करना ना भूलें। और यदि आप Internet और Computer के बारे में सीखना और जानना चाहते है तो कृपया Facebook k Like बटन में क्लिक करे। Happy Learning
Technology के बारे में रोज कुछ न कुछ नया सीखने के लिए youtube में यहाँ से subscribe करें ==>>
★★★★★
Your Comment For This Post..?