What is IDV in Vehicle Insurance Policy And Why IDV is Important ?

What is IDV in Vehicle Insurance Policy And Why IDV is Important ?

नमस्कार दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम आपको IDV यानी Insured Declared Value के बारे में बताएँगे, जो कि आपके लिए जानना बहुत ज़रूरी है | यदि आप यह जानना चाहते हैं तो फिर हमारे इस पोस्ट को अंत तक पूरा पढ़ें | जैसा की दोस्तों आप सभी जानते ही होंगे की इससे पहले हमने आपको भारत की Top 5 Life Insurance Companies और Types Of Life Insurance in India के बारे में बताया था | जिसके बाद हमने आपको जीवन बीमा और उसके प्रकारों के बारे में जानकारी दी थी |

इसके अलावा दोस्तों हमने आपको Insurance और Insurance के Types और Online Car Insurance Purchase करना भी सिखाया था | जिसके बाद आज हम आपके लिए अपनी इस पोस्ट को लाएँ हैं ताकि आपको इन्शुरन्स से संबंधित सारी जानकारी एक जगह मिल सके |

तो चलिए दोस्तों अब आपका ज़्यादा समय बर्बाद ना करते हुए हम आपको IDV (Insured Declared Value) के बारे में बताना शुरू करते हैं |

What is IDV ? IDV क्या होता है ?

IDV की Full Form है Insured Declared Value, और यह आपके वाहन का वर्तमान बाजार मूल्य होता है | मतलब की दोस्तों यदि कभी आपकी कार चोरी या पूरी तरह से Damage हो जाती है, तो बीमा कंपनी आपको इसी के आधार पर भुगतान करती है | इसलिए यह बहुत ज़रूरी है कि कार का बीमा सही IDV पर हो |

IDV Insurer द्वारा Insurance Policy के लिए दिया जाता है | यह आपके वाहन के वर्तमान बाज़ार मूल्य को दर्शाता है | यदि Policy की अवधि के दौरान कभी आपके वाहन को कोई नुक्सान पहुँचता है या फिर किसी प्रकार की हानि होती है तो यही वो Amount होती है जिसे आप Claim कर सकते हैं |



आमतौर पर जब भी आप कोई पॉलिसी खरीदते हैं या उसे Renew कराते हैं, तो हर बार बीमा कंपनी यह मूल्य निर्धारित करती है | दोस्तों यही वो अधिकतम राशि होती है जो बीमा कंपनी हानि की स्थिति में आपको देती है|

इन चीज़ों के आधार पर तय होता है IDV (Insured Declared Value) -

आपका बीमाकर्ता IDV पर पहुँचने के लिए निम्न ज़रूरी चीज़ों का प्रयोग करता है और फिर उसे भारतीय मोटर टैरिफ के अनुसार Standard Depreciation Rates पर Adjust करता है |

  • कार की रजिस्ट्रेशन डिटेल्स |
  • शहर जहाँ वाहन पंजीकृत है - जहाँ का पंजीकरण प्रमाण पत्र पर उपलब्ध है |
  • पहली खरीद या पंजीकरण की तारीख - जिस तारीख का पंजीकरण प्रमाण पत्र पर उपलब्ध है |
  • वर्तमान पंजीकरण प्रकार - Individual or Company Owned.
  • वाहन का Manufacturer और Model.
  • Ex-Showroom Price (कार की वास्तविक कीमत) |

IDV और Premium -

हमें जो इन्शुरन्स प्रीमियम देना होता है वो IDV से बिलकुल उल्टा होता है मतलब कि जैसे-जैसे आपका वाहन पुराना होता है, वैसे वैसे प्रीमियम घटता है | IRDAI (Insurance Regulatory and Development Authority of India) की Policy यह बताती है कि आपके वाहन के लिए अधिकतम घोषित मूल्य इसके पूर्व शोरूम कीमत का 95% तक हो सकता है |

IDV= (Manufacturer’s Listed Selling Price - Depreciation) + (Accessories That Are Not Included in Listed Selling Price - Depreciation) And Excludes Registration And Insurance Costs.



आपके वाहन का Depreciation जिस आधार पर किया जाता हैं, उसे आप निचे दी गई Table में देख सकते हैं -

Vehicle's Age 
Depreciation (%)
Not Exceeding 6 Months 
   5% Depreciation is Deducted          
          Exceeding 6 Months But Not 1 Year        
15% Depreciation is Deducted        
Exceeding 1 Year But Not 2 Years 
20% Depreciation is Deducted        
Exceeding 2 Year But Not 3 Years 
30% Depreciation is Deducted        
Exceeding 3 Year But Not 4 Years 
40% Depreciation is Deducted        
Exceeding 4 Year But Not 5 Years 
50% Depreciation is Deducted        

5 साल से अधिक आयु वर्ग के वाहनों का IDV बीमाकर्ता और बीमाधारक के बीच में आपसी सहमति के आधार पर किया जाता है | 

Why IDV (Insured Declared Value) is Important -

जैसा की दोस्तों हमने आपको बताया था कि IDV वो अधिकतम राशि होती है जो बीमा कंपनी वाहन के किसी नुक्सान या हानि की स्थिति में आपको देती है | इसलिए आपको हमेशा उतनी IDV Choose करनी चाहिए जो कि आपके वाहन के बाज़ार मूल्य कि कीमत के करीब हो | 

बीमाकर्ता को IDV कम करने के लिए 5% से 10% की Range दी जाती है, जिसे ग्राहक द्वारा चुना जा सकता है | कम IDV को Select करने से कम Premium आता है |

Disclaimer - किसी भी कंपनी की Insurance Policy को लेने से पहले उसकी Terms और Conditions के बारे में ज़रूर पता करें |

इसी के साथ दोस्तों हमारा यह पोस्ट यहीं पर समाप्त होता है, उम्मीद करते हैं की आपको हमारा यह पोस्ट बहुत पसंद आया होगा |

हमारे ख्याल से दोस्तों अब आपको IDV(Insured Declared Value) से संबंधित सारी जानकारी यहाँ मिल गई होगी |

यदि आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे Like, Share और Comment करना ना भूलें, ताकि हम आपके लिए ऐसे पोस्ट लाते रहें |

इसके अलावा दोस्तों यदि आप चाहें तो निचे दिए गए हमारे Popular पोस्टों को भी पढ़ सकते हैं -





अगर आपको यह Post and Video अच्छा लगा तो लाइक करना ना भूलें। और यदि आप Internet और Computer के बारे में सीखना और जानना चाहते है तो कृपया Facebook k Like बटन में क्लिक करे। Happy Learning
Technology के बारे में रोज कुछ न कुछ नया सीखने के लिए youtube में यहाँ से subscribe करें ==>>
★★★★★
Your Comment For This Post..?