pixel अब आधार से जुड़ेंगे ड्राइविंग लाइसेंस, फर्जी लाइसेंसों पर कसेगी लगाम, जानें क्या है पूरी ख़बर !

अब आधार से जुड़ेंगे ड्राइविंग लाइसेंस, फर्जी लाइसेंसों पर कसेगी लगाम, जानें क्या है पूरी ख़बर !

अब आधार से जुड़ेंगे ड्राइविंग लाइसेंस और फ़र्ज़ीवाड़े पर लगेगी लगाम !

जैसा की दोस्तों आप सभी जानते ही हैं की रोज़ाना हमें आधार कार्ड से संबंधित कुछ ना कुछ नई ख़बर सुनने को मिलती ही रहती है | अब ऐसे में दोस्तों एक नई ख़बर सामने आई है, जिसके तहत जल्द ही आधार नंबर को ड्राइविंग लाइसेंस के साथ लिंक करना ज़रूरी कर दिया जाएगा | वैसे वर्तमान में ज़्यादातर चीज़ों के साथ आधार नंबर को जोड़ना अनिवार्य कर दिया गया है | फिर चाहे वो हमारा बैंक अकाउंट हो, पैन कार्ड हो या फिर कोई LIC Policy, सभी चीज़ों के साथ आधार नंबर को लिंक करना ज़रूरी है |

ड्राइविंग लाइसेंस को आधार के साथ लिंक करना हुआ ज़रूरी -

हाल ही में दोस्तों केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को जानकारी दी है कि ड्राइविंग लाइसेंसों को आधार नंबर से जोड़े जाने की प्रक्रिया पर काम चल रहा है | जिससे की फर्जी ड्राइविंग लाइसेंसों पर लगाम लगाई जा सके और कोई भी व्यक्ति इसका इस्तेमाल ना कर सके | सरकार का कहना कि इस काम के लिए एक नया साफ्टवेयर बनाया जा रहा है, जिसमें सभी राज्यों को शामिल किया जाएगा | भारत सरकार की इस पहल से हमारे देश में मौजूद फर्जी लाइसेंसों की समस्या को दूर किया जा सकेगा |


यह सारी जानकारी Justice Deepak Gupta और Justice Madan B. Lokur की Bench को Road Safety Committee (सड़क सुरक्षा समिति) ने दी | इस समिति को सुप्रीम कोर्ट के पूर्व Justice K.S Radhakrishnan की अध्यक्षता में शीर्ष अदालत के माध्यम से नियुक्त किया गया था | यह सारी जानकारी Justice Deepak Gupta और Madan B. Lokur की Bench को Road Safety Committee (सड़क सुरक्षा समिति) ने दी |

वर्तमान समय में Cheif Justice Deepak Mishra की अध्यक्षता में पाँच सदस्यीय संविधान पीठ (Five-Member Constitution Bench) आधार योजना और उससे संबंधित कानूनों की संवैधानिकता को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुनवाई कर रही है | जिसके कारण सड़क सुरक्षा समिति द्वारा दी गई इस जानकारी को अत्यधिक महतवपूर्ण बताया गया है |

ऐसे दूर होगी फर्जी लाइसेंसों की समस्या -

जो रिपोर्ट समिति ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल करी, उसमें समिति का कहना है कि पिछले साल उन्होंने 28 November को Ministry of Road Transport and Highways के संयुक्त सचिव (Joint Secretary) के साथ मिलकर फर्जी लाइसेंसों की समस्या को दूर करने पर विचार-विमर्श किया था | जिस पर संयुक्त सचिव का कहना है कि NIC "सारथी-4" इस समस्या के समाधान के लिए एक नया साफ्टवेयर तैयार कर रहा है |


जिसके माध्यम से सभी लाइसेंसों को आधार कार्ड के साथ जोड़ा जा सकेगा और फर्जी लाइसेंसों की समस्या को दूर किया जा सकेगा | सही समय के आधार पर सारे राज्यों को यह साफ्टवेयर अपने दायरे में लेगा, जिसके बाद किसी भी व्यक्ति के लिए फर्जी या डुप्लीकेट लाइसेंस लेना संभव नहीं होगा | अब बस देखना यह है कि आने वाले समय में आधार कार्ड को ड्राइविंग लाइसेंस के साथ कब से जोड़ा जा सकेगा |

लेकिन दोस्तों इसके आने के बाद एक बात तो तय है कि हमारे देश से फर्जी लाइसेंसों की समस्या को हमेशा-हमेशा के लिए दूर किया जा सकेगा | इसी के साथ दोस्तों अब हमारी यह ख़बर यहीं पर समाप्त होती है और हमें उम्मीद है कि आपको यह ख़बर बहुत पसंद आई होगी |

यदि आपको यह ख़बर पसंद आई हो तो इसे Like, Share और Comment करना ना भूलें ताकि भविष्य में हम ऐसी ख़बर लाते रहें |

इसके अलावा दोस्तों यदि आप चाहें तो हमारे निचे दिए गए पॉपुलर पोस्टों को भी पढ़ सकते हैं - 





No comments :

No comments :

Post a Comment

You Can Write Your Problem Here